BESTSELLERS PRODUCT

Sunday, August 17, 2014

कृष्ण जन्माष्टमी कविता



हे कृष्णा मेरे सभी मित्रों पर अपनी कृपा बनाए रखना, सबका भला सबका कल्याण करना, वृंदावन का कृष्ण कनहैया ,सबकी आँखों का तारा , मन ही मन क्यों जले राधिका ,मोहन तो है सब का प्यारा | जमुना तट पर नंद का लाला,जब जब रास रचाए रे, तन मन डोले कानहा ऐसी, वंशी मधुर बजाए रे, सुध बुध खोए खड़ी गोपियाँ ,जाने कैसा जादू डारा ||१|| 
रंग सलोना ऐसा जैसे,छाई बदरिया सावन की, मैं तो हुई दिवानी,सावन के मन भावन की, रे कारण देख बाबरे,छोड़ दिया मैंने जग सारा ||२|| ''जय श्री राधे कृष्णा ' जय श्री कृष्णा जय जय श्री कृष्णा
/////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////
कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये //


No comments:

Post a Comment

आप अपने सुझाव हमें जरुर दे ....
आप के हर सुझाव का हम दिल से स्वागत करते है !!!!!